Mix Hindi Shayri




दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया,
खाली ही सही हाथों में जाम तो आया
मैं हूँ बेवफ़ा सबको बताया उसने,
यूँ ही सही उसके लबों पे मेरा नाम तो आया!

रोज साहिल से समंदर का नजारा  करो,

अपनी सूरत को रोज निहारा  करो,

देखो मेरी नजरों में उतर कर खुद को,

आइना हूँ मैं तेरा मुझसे किनारा  करो

कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा,

खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा,

प्यार की आग में उसको इतना जला देंगे,

कि इजहार वो मुझसे सरे-बाजार करेगा

यकीन अपनी चाहत का इतना है मुझे,

मेरी आँखों में देखोगे और लौट आओगे,

मेरी यादों के समंदर में जो डूब गए तुम,

कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे

रास्ते खुद ही तबाही के निकाले हमने,

कर दिया दिल किसी पत्थर के हवाले हमने,

हमें मालूम है क्या चीज़ है मोहब्बत यारो,

घर अपना जला कर किये हैं उजाले हमने

 बिछड़ के तुमसे ज़िन्दगी सज़ा लगती है
ये सांस भी जैसे मुझसे ख़फ़ा लगती है
अगर उम्मीद--वफ़ा करूँ तो किससे करूँ
मुझको तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफा लगती है.

नफरत को मोहब्बत की आँखों में देखा,
बेरुखी को उनकी अदाओं में देखा,
आँखें नम हुईं और मैं रो पड़ा
जब अपने को गैरों की बाहों में देखा

भंवर से निकलकर किनारा मिला है,
जीने को फिर से एक सहारा मिला है,
बहुत कशमकश में थी ये ज़िंदगी मेरी,
उस ज़िंदगी में अब साथ तुम्हारा मिला है

ज़िन्दगी से यही गिला है मुझे,
तू बहुत देर से मिला है मुझे,
तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल,
हार जाने का हौसला है मुझे
  
रूठी जो जिदंगी तो मना लेंगे हम,
मिले जो गम वो सह लेंगे हम,
बस आप रहना हमेशा साथ हमारे तो,
निकलते हुए आंसूओ में भी मुस्कुरा लेंगे हम

दिल में प्यार का आगाज हुआ करता है,
बातें करने का अंदाज हुआ करता है,
जब तक दिल को ठोकर नहीं लगती,
सबको अपने प्यार पर नाज हुआ करता है!

जिस जिस ने मुहब्बत में,
अपने महबूब को खुदा कर दिया,
खुदा ने अपने वजूद को बचाने के लिए,
उनको जुदा कर दिया

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए,
महसूस हुआ तबजब वो जुदा हुए,
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो,
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए!

दिल का हाल बताना नहीं आता
किसी को ऐसे तड़पाना नहीं आता ….
सुनना चाहते हैं आपकी आवाज़ ….
मगर बात करने का बहाना नहीं आता….

यूँ पलके बिछा कर तेरा इंतज़ार करते है ,
ये वो गुनाह है जो हम बार बार करते हैं ,
जलकर हसरत की राह पर चिराग,
हम सुबह और शाम तेरे मिलने का इंतज़ार करते हैं।

मेरे दिल में तेरे लिए प्यार आज भी है
माना कि तुझे मेरी मोहब्बत पर शक आज भी है
नाव में बैठकर जो धोए थे हाथ तूने
पूरे तालाब में फैली मेंहदी की महक आज भी है

मेरी साँसों में बिखर जाओ तो अच्छा है
बन के रूह मेरे जिस्म में उतार जाओ तो अच्छा है
किसी रात तेरी गोद में सिर रख कर सो जाऊँ मैं
उस रात की कभी सुबह ना हो तो अच्छा है

तुझे इनकार है मुझसेमुझे इकरार है तुझसे,
तू खफा है मुझसेमुझे चाहत है तुझसे,
तू मायूस है मुझसेमुझे खुशी है तुझसे,
तुझे नफ़रत है मुझसे और मुझे प्यार है तुझसे

किसी की यादो को रोक पाना मुश्किल है

रोते हुए दिल को मनाना मुश्किल है

ये दिल अपनो को कितना याद करता है

ये कुछ लफ्जो में बयाँ कर पाना मुश्किल है

0 comments:

Post a Comment